Skip to content
Home » Mere Ghar Ram Aaye Hain Lyrics – Jubin Nautiyal

Mere Ghar Ram Aaye Hain Lyrics – Jubin Nautiyal

मेरे घर राम आए हैं  Lyrics – Jubin Nautiyal. Mere Ghar Ram Aaye is the latest song sung by jubin nautiyal. This song is written by Manoj Muntashir. The official music video is available on the Youtube channel T-Series. Below are Lyrics of Mere Ghar Ram Aaye Hain song in Hindi and English.

SongMere Ghar Ram Aaye Hain
SingerJubin Nautiyal
MusicPayal Dev
LyricsManoj Muntashir
Album NameMere Ghar Ram Aaye Hain
DirectorLovesh Nagar
Music LabelT-Series

Mere Ghar Ram Aaye Hain Lyrics – by Manoj Muntashir

Meri Chaukhat Pe Chalke Aaj
Charon Dhaam Aaye Hain
Bajao Dhol Swagat Mein
Mere Ghar Ram Aaye Hain

Katha Sabri Ki Jaise Jud
Gayi Meri Kahani Se
Na Roko Aaj Dhone Do
Charan Aankhon Ke Paani Se

Bahut Khush Hain Mere Aansu
Ke Prabhu Ke Kaam Aaye Hain
Bajao Dhol Swagat Mein
Mere Ghar Ram Aaye Hain

Tumko Paake Kya Paaya Hai
Srishti Ke Kan Kan Se Puchho
Tumko Khone Ka Dukh Kya Hai
Kaushalya Ke Mann Se Puchho

Dwar Mere Yeh Abhage
Aaj Inke Bhaag Jaage

Badi Lambi Intzari Hui
Raghubar Tumhari Tab
Tab Aayi Hai Sawari

Sandeshe Aaj Khushiyon Ke
Hamare Naam Aaye Hain
Bajao Dhol Swagat Mein
Mere Ghar Ram Aaye Hain

Darshan Paake Hey Avtari
Dhanya Hue Hai Nain Pujari
Jeevan Naiyya Tumne Taari
Mangal Bhawan Amangal Haari
Mangal Bhawan Amangal Haari

Nirdhan Ka Tum Dhan Ho Raghav
Tum Hi Ramayan Ho Raghav
Sab Dukh Harna Avadhbihari
Mangal Bhawan Amangal Haari

Mangal Bhawan Amangal Haari
Mangal Bhawan Amangal Haari

Charan Ki Dhool Le Loon Main
Mere Bhagwan Aaye Hain
Bajao Dhol Swagat Mein
Mere Ghar Ram Aaye Hain

Meri Chaukhat Pe Chalke Aaj
Charon Dhaam Aaye Hain
Bajao Dhol Swagat Mein
Mere Ghar Ram Aaye Hain

see more new song Hindi and englesh Lyrics praiselyrics.org

मेरे घर राम आए हैं गीत – मनोज मुंतशिर

मेरी चौखट पे चलते आजो
चारो धाम आए हैं
बजाओ ढोल स्वागत में
मेरे घर राम आए हैं

कथा साबरी की जैसे जुडो
गई मेरी कहानी से
ना रोको आज फोन दो
चरण आंखों के पानी से

बहुत खुश हैं मेरे आंसू
के प्रभु के काम आए हैं
बजाओ ढोल स्वागत में
मेरे घर राम आए हैं

तुमको पाके क्या पाया है
सृष्टि के कान से पुछो
तुमको खोने का दुख क्या है
कौशल्या के मन से पुछो

द्वार मेरे ये अभगे
आज इनके भाग जाएंगे

बड़ी लंबी इंतज़ारी हुई
रघुबर तुम्हारी तबी
तब आई है सवारी

संदेशे आज खुशियों के
हमारे नाम आए हैं
बजाओ ढोल स्वागत में
मेरे घर राम आए हैं

दर्शन पाके हे अवतारी
धन्य हुए है नैन पुजारी
जीवन नैय्या तुमने तारिक
मंगल भवन अमंगल हरि
मंगल भवन अमंगल हरि

निर्धारण का तुम धन हो राघवी
तुम ही रामायण हो राघवी
सब दुख हरना अवधबिहारी
मंगल भवन अमंगल हरि

मंगल भवन अमंगल हरि
मंगल भवन अमंगल हरि

चरण की धूल ले लूं मैं
मेरे भगवान आए हैं
बजाओ ढोल स्वागत में
मेरे घर राम आए हैं

मेरी चौखट पे चलते आजो
चारो धाम आए हैं
बजाओ ढोल स्वागत में
मेरे घर राम आए हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *